'https://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js'/> src='https://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js'/> Contact

Contact

संपर्क




                    गुलशेर अहमद




Gulsher Ahmad (एडमिन)
gulsherahmad900@gmail.com
megullu9@gmail.com
Phone- 08982731367 (WhatsApp)

एक बहुत ही साधारण लड़का, जो अपनी साधारण सोच से असाधारण सामाजिक बदलाव चाहता है।

An Engineer | A writer

यदि आप अपनी पुस्तकों की समीक्षाएँ हमारी वेबसाइट पर पब्लिश करवाना चाहते हैं तो अपनी पुस्तक हमें उपरोक्त नंबर और ईमेल से कांटेक्ट केरके भेज सकते हैं। हम आपकी किताब पढेंगे और फिर उसकी समीक्षा भी यहाँ लिखेंगे।

"जीवन एक दरिया की तरह है और हम सभी एक नाव पर हैं जहाँ कोई भी पतवार नहीं है लेकिन पतवार बनाने के लिए ज्ञान का भण्डार यहाँ अवश्य उपलब्ध है।
हम उससे अपनी नाव खेने का पतवार बना सकते हैं लेकिन खेवाय्या प्रकृति ही होगी। हमारी इस जीवन के दरिया का किनारा मृत्यु है।"



सहयोगी लेखक

शाहनवाज़ आलम "मुज़िर"



















शाहनवाज़ आलम "मुज़िर" www.ahmadsvoice.com के सहयोगी लेखक हैं और इनकी रचनाएँ कमाल की हैं। उम्मीद करते हैं कि आपको इनकी लेखनी पसंद आए।

इन्हें ऊर्दू हाथ पकड़कर अपने तरफ खींचती है तो हिन्दी का हाथ ये ख़ुद छोड़ नहीं पाते क्यों कि ये हिन्दी साहित्य से प्रेम में हैं, चाहते भी हैं तो साहित्य रचनाएं इन्हें खींच लेती हैं। इंग्लिश भाषा तो इन्हें ना चाहते हुए बोलना पढ़ना पड़ता है। इसके लिए ये समाज और समाज की रंग रेखा इन्हें मजबूर करती है।
और भोजपुरी तो इन्हें माँ के साथ ही मिला है। 

तो इस तरह के है शाहनवाज़ आलम मुज़िर, जो अपनी बातें किसी भी मुद्दे पर रखने से डरते नहीं है। आप यदि इनसे बात करना चाहें तो निम्न पते पर सम्पर्क करें।

Email: Muziralam@gmail.com
मोबाईल :- +919661206427





सहयोग


यदि आप हमें पढ़ते हैं और हमारी रचनाएँ आपको पसंद आती हैं तो आप नीचे दिए Links पर जा कर हमसे जुड़ सकते हैं। हमरी रचनाओं की प्रशंसा और आलोचना का बहुत दिल से स्वागत और अभिनन्दन करते हैं।

इस वेबसाइट से अभी हमें कोई आर्थिक लाभ नहीं मिलता और न ही कहीं और से। यदि आप हमें अपनी सक्षमता से सहायता करना चाहते हैं तो ईमेल से या दिए गए मोबाईल नम्बर पर संपर्क करके तथा निम्न "फोन पे बार कोड" को स्कैन करके सहयोग दे सकते हैं।

"फोन पे बार कोड"







































2 Comments

Post a Comment