'https://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js'/> src='https://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js'/> Gulsher Ahmad

Read more

View all

पुस्तक समीक्षा : सव्य साची - छल और युद्ध

पुस्तक समीक्षा : सव्य साची - छल और युद्ध लेखक : आकाश पाठक प्रकाशक : बुकेमिस्ट ( सूरज पॉकेट बुक्स) …

अँगूठों की वंदनवारें : फ़ेसबुक का लाइक एक जादुई बटन है!

अँगूठों की वंदनवारें ... फ़ेसबुक का लाइक एक जादुई बटन है!  द्रोण को एकलव्य के अँगूठे से भय लगता था।…

पुस्तक समीक्षा : ज़िन्दग़ी रेल सी

पुस्तक समीक्षा: ज़िन्दग़ी रेल सी लेखक: पुरुषोत्तम कुमार प्रकाशक: Notion Press Media Pvt Ltd Lang…

पुस्तक समीक्षा : गुगली

पुस्तक समीक्षा : गुगली लेखक : ज्ञानेश साहू  प्रकाशक : राजपाल एंड सन्स, 1590 Madarsa Road, Kashmi…

पंकज त्रिपाठी ने कहा कि वो अभिनय करते-करते थक गए हैं .

पंकज त्रिपाठी ... पिछले महीने दिए एक इंटरव्यू में पंकज त्रिपाठी ने कहा कि वो अभिनय करते-करते थक ग…

कंगना किसी दुखती रग (Raw nerve) की तरह हैं.

कंगना ... कंगना किसी दुखती रग (Raw nerve) की तरह हैं- भला लगे या बुरा- अनदेखी करना कठिन है। बीते …

भोजपुरी अश्लील क्यों बन गई ?

भोजपुरी अश्लील क्यों बन गई ?  अतुल कुमार राय जी की फेसबुक पोस्ट से ये बहुत ज़रूरी लेख लिया गया है. …

आयुष्मान का नाम बदलकर कंटेंटमान खुराना कर देना चाहिए!"

आयुष्मान खुराना के लिए "सुशोभित" जी के द्वारा लिखा गया लेख जो उन्होंने अपने फेसबुक वाल स…

पुस्तक समीक्षा : ड्रैगन्स गेम

पुस्तक समीक्षा : ड्रैगन्स गेम लेखक : रणविजय प्रकाशक : हिन्द युग्म   सी-31, सेक्टर-20, नो…

Load More That is All